200 स्टूडेंट्स निशुल्क पढ़ाई करेंगे, मशीनों से तैयार होगा खाना:भाई की याद में बहन ने 20करोड़ का बनाया हॉस्टल

Media Desk
खबर की सुर्खिया
  • भाई की याद में बहन ने 20करोड़ का बनाया हॉस्टल: 200 स्टूडेंट्स निशुल्क पढ़ाई करेंगे, मशीनों से तैयार होगा खाना..!!
  • बाड़मेर 6 मई यानी आज पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट करेंगे लोकार्पण और मूर्ति का अनावरण

बहन भाई को राखी बांधकर भाई से रक्षा का संकल्प लेती है। लेकिन बाड़मेर की बहन ने भाई की याद को आने वाली पीढ़ियों तक जिंदा करने के लिए अपनी कमाई के करोड़ों रुपए लगाकर हाई टेक्नोलॉजी का पांच मंजिला वीरेंद्र धाम हॉस्टल बना दिया। इस हॉस्टल में सभी समाज के गरीब व असहाय 200 स्टूडेंट्स फ्री में रहकर एजुकेशन व कॉम्पिटिशन की तैयारी फ्री में कर सकेंगे। 6 मई यानी आज वीरेंद्र धाम का लोकार्पण पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट करेंगे। एडवोकेट सुनीता का कहना है कि मैं मेरे पति की कंपनी मारुति बिटू मेन प्राइवेट लिमिटेड में शेयर भागीदार हूं और उससे जितना प्रॉफिट मेरे हिस्से का होता है वह सारा पैसा वीरेंद्र धाम में पहले लगा चुकी और आगे भी समाज सेवा में लगाती रहूंगी।

Balotra News Photo

मंत्री हेमाराम चौधरी के इकलौते बेटा था विरेंद्र, उसकी याद में पिता ने दान की करोड़ों रुपए की बेशकीमती जमीन

- Advertisement -
Ad imageAd image

बहन सुनीता चौधरी ने कहा कि विरेंद्र धाम तो कुदरत ने हमसे करवाया है मेरे भाई विरेंद्र व पिता हेमाराम चौधरी ने हमेशा लोगों की सेवा की है। हेमाराम चौधरी ने राजनीति शुरू करने के साथ जयपुर में गरीब व असहाय स्टूडेंट पढ़ाई करने के लिए क्वार्टर में ठहरते थे। भाई के देहांत के बाद पूरा परिवार टूट गया था। हम लोग संभल नहीं पाए। साल 2016 में विरेंद्र मेमोरियल ट्रस्ट बनाया। मैं मेरे पति के कंपनी में डॉयरेक्टर पद पर हूं। कंपनी से मिलने वाले मेरे हिस्से का प्रोफिट से मैंने विरेंद्र धाम का निर्माण करवाया। वहीं, आगे भी मेरे प्रॉफिट को समाज सेवा में लगाती रहूंगी।

पांच मंजिला विरेंद्र धाम में 84 रूम है। एक रूम में 2 स्टूडेंट को मिलेगी निशुल्क सुविधा, चार हॉल भी बनाए गए है। हॉस्टल में लिफ्ट की भी सुविधा है।
पांच मंजिला विरेंद्र धाम में 84 रूम है। एक रूम में 2 स्टूडेंट को मिलेगी निशुल्क सुविधा, चार हॉल भी बनाए गए है। हॉस्टल में लिफ्ट की भी सुविधा है।
साल 2015 में हुई थी भाई का हुआ देहांत

Balotra News Photo

कैबिनेट मंत्री हेमाराम चौधरी के बेटे वीरेंद्र चौधरी बीकानेर में प्रोफेसर थे। 21 मार्च 2015 को कैंसर की बीमारी के चलते देहांत हो गया। इसके बाद कैबिनेट मंत्री का परिवार टूट गया, लेकिन बेटी सुनीता चौधरी ने भाई वीरेंद्र चौधरी की याद में शिक्षा जगत में नवाचार कर गरीब बच्चों की पढाई के लिए वीरेंद्र धाम बनाने की ठानी। पिता हेमाराम चौधरी ने 3 बीघा जमीन वीरेंद्र मेमोरियल ट्रस्ट के नाम की। सुनीता ने स्व. भाई वीरेंद्र की याद में गरीब बच्चों को पढ़ाने के लिए करीब 20-25 करोड़ की लागत से हॉस्टल बनाया है।

बहन सुनीता ने अहमदाबाद सरदार धाम की तर्ज पर बनाया विरेंद्र धाम।
अहमदाबाद सरदार धाम की तर्ज पर बनाया विरेंद्र धाम

बहन एडवोकेट सुनीता चौधरी के मुताबिक हॉस्टल हमने कुछ कमरों में 2016 से शुरू कर दिया था। उस समय 60-65 स्टूडेंट रहते थे। साल 2020 में कोविडकाल में पिता कैबिनेट मंत्री हेमाराम चौधरी को कोरोना हो गया। तभी हमने यह तय किया कि वीरेंद्र मेमोरियल ट्रस्ट जमीन पर न्यू टैक्नोलॉजी का हॉस्टल बनाएंगे। इसके बाद अहमदाबाद में अलग-अलग हॉस्टल हो देखे। अब सरदार धाम की तर्ज पर वीरेंद्र धाम को बनाया है। कैबिनेट मंत्री के इकलौते बेटे की 2015 में मौत हो गई थी, इसके बाद उनकी बेटी सुनीता चौधरी ने भाई वीरेंद्र की याद में शिक्षा के जगत में गरीब बच्चों को पढ़ाने के लिए हॉस्टल बनाने की ठानी। इसके बाद अहमदाबाद के सरदार धाम विजिट कर वहां का आइडिया लेकर हॉस्टल का काम शुरू करवाया। वीरेंद्र धाम का उद्घाटन 6 मई को पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट करेंगे।

हॉस्टल में माड्यूलर कीचन बनाया गया है। वहीं रोटियां मशीनों से तैयार की जाएगी।
तीन साल पहले रखी थी नींव, सचिन पायलट करेंगे लोकार्पण

वीरेंद्र धाम हॉस्टल की नींव 24 अप्रैल 2020 को रखी गई थी। तब से लगातार तीन सालों से हॉस्टल निर्माण का काम चल रहा है। जो अब जाकर पूरा हुआ है। 6 मई को पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट का इसका लोकार्पण करेंगे। इसके बाद आदर्श स्टेडियम में सचिन पायलट एक आम सभा भी करेंगे।

Balotra News Photo

भूकंप एवं पानी रोधी वाटर प्रूफ केमिकल से बनाया हॉस्टल
पांच मंजिला का निर्माण भूकंप रोधी, आरसीसी फ्रेम्ड स्ट्रक्चर बनाया गया है। इसके साथ-साथ धूप एवं पानी रोधी वाटर प्रूफ केमिकल ट्रीटेड टाईल्स छत, ग्रेनाइट एवं टाईल्स फर्श, वाटर प्रूफ प्लाईवुड के दरवाजे, तापरोधी कांच की खूबसूरत खिड़कियां लगाई गई है।

हॉस्टल के दो द्वार है। अंदर घुसते ही सीढ़ियां व लिफ्ट है।
हॉस्टल के दो द्वार है। अंदर घुसते ही सीढ़ियां व लिफ्ट है।
कुल 84 रूम, प्रत्येक रूम में अटैच बाथरूम, फर्नीचर, पलंग कुर्सी अलमारी

Balotra News Photo

पांज मंजिला बिल्डिंग में 86 कमरें है। प्रत्येक कमरें में लेट-बाथरूम अटैच है। इस हॉस्टल में दो लिफ्ट भी है। 40 गुणा 60 की साइज के 4 हॉल है। हॉस्टल में 36 रूम में तीन-तीन स्टूडेंट्स और 48 रूम में दो-दो स्टूडेंट रुक सकेंगे। प्रत्येक रूम में बाथरूम, फर्नीचर, पलंग, कुर्सी टेबल, पंखा, बिस्तर अलमारी है। प्रत्येक मंजिल में एक-एक हाल का निर्माण करवाया गया है। वह ग्राउंड फ्लोर पर भोजनशाला का बनाई गई है। फर्स्ट फ्लोर में लाइब्रेरी, सेंकड फ्लोर पर सेमीनार हाल, थर्ड फ्लोर डिजिटल कक्षा के लिए बनाया गया है। इसके लिए जयपुर के कोचिंग सेंटर से संपर्क कर शुरू किया जाएगा।

पांच मंजिला हॉस्टल में दो लिफ्ट की लगाई गई है। वहीं प्रत्येक रूम में अटैच बाथरुम है।
पांच मंजिला हॉस्टल में दो लिफ्ट की लगाई गई है। वहीं प्रत्येक रूम में अटैच बाथरुम है।
हॉस्टल में माड्यूलर कीचन में बनाया गया

ग्राउंड फ्लोर में कीचन में बर्तन, चक्की, माड्यूलर किचन आदि समस्त आवश्यक सुविधाएं हैं। स्टूडेंट्स के लिए रोटियां बनाने के लिए मशीन भी लगाई गई है। वहीं, खाना बनाने वाले रसोईयों के रहने के लिए इस भवन की भोजनशाला के पास अलग से दो कमरों का आवास निर्मित है।

Balotra News Photo

हॉस्टल दो सीढ़ियां, लिफ्ट, वाटर कूलर की सुविधा
हॉस्टल के भवन में दो पोर्च प्रवेश द्वार बने हुए है। इनके सामने दो सीढियां, दो लिफ्ट, प्रत्येक तल पर पीने के पानी के वाटर कूलर, कामन शौचालय, लाइट पेनल बोर्ड एवं पूरे भवन चारों तरफ से खुला होने से प्राकृतिक हवा, रोशनी आदि सुविधाएं उपलब्ध हैं। लाइट सप्लाई के लिए सोलर पैनल, वर्षा जल संग्रहण के लिए होद, पूरे परिसर में डिजिटल कैमरा, अग्नि शमन यंत्र, सड़क, लाईट, सिवरेज लाईन आदि सुविधाएं हैं।

कीचन में न्यू टेक्नोलॉजी के किचन को तैयार करवाया है।
कीचन में न्यू टेक्नोलॉजी के किचन को तैयार करवाया है।
न्यू टैक्नोलॉजी का कीचन, लाइब्रेरी और कॉन्फ्रेंस हॉल

बाड़मेर शहर के पीजी कॉलेज के सामने शहर के बीचों-बीच बेशकीमती करोड़ों की जमीन पर वीरेंद्र धाम का निर्माण किया गया है। करीब 2 साल बाद हॉस्टल तैयार हो गया है। इसमें न्यू टैक्नोलॉजी किचन भी है। इस किचन में मशीनों से भोजन तैयार होगा। इसके अलावा एक हॉल में लाइब्रेरी है। एक कांन्फ्रेंस हॉल है। सदियों में बच्चों को गर्म पानी के लिए गीजर भी लगाए है।

स्टूडेंट्स के खेलने के लिए खेल मैदान
एडवोकेट सुनीता चौधरी के मुताबिक हॉस्टल के आगे स्टूडेंट्स के मानसिक के साथ-साथ शारीरिक विकास करने के लिए बास्केटबॉल, टेनिस, वालीबॉल और कब्बड्डी के अलग-अलग खेल मैदान भी बनाए गए है। खेल मैदान हॉस्टल के आगे की तरफ तैयार करवाए गए है।

Balotra News Photo

कैबिनेट मंत्री हेमाराम का था इकलौता बेटा
कैबिनेट मंत्री हेमाराम चौधरी के इकलौता बेटा व बेटी है। इसमें बेटे का 2015 में देहांत हो गया था। वही बेटी पेशे से वकील है। फिलहाल अपने पति की कंपनी में डॉयरेक्टर है और 50 फीसदी हिस्सेदारी है। स्व. वीरेंद्र के दो बेटियां है। सबसे बड़ी बेटी साक्षी (18) और दूसरी बेटी योसिता (12) है। साक्षी एमबीबीएस कर रही है। वहीं योसिता पढ़ाई कर रही है। वहीं मंत्री की पुत्रवधु जोधपुर उम्मेद हॉस्पिटल में डॉक्टर है।

Share This Article
By Media Desk Media Team
Follow:
Balotra News Media Team
Update Contents
Balotra News-बालोतरा न्यूज़ We would like to show you notifications for the latest news and updates.
Dismiss
Allow Notifications